Uttarakhand Weather Update:

Uttarakhand में पिछले पांच दिनों से भीषण गर्मी से लोगों का हाल बेहाल है। तापमान दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। मैदान से लेकर पहाड़ तक लोग भीषण गर्मी से त्रस्त हैं. ठंडे तापमान के लिए मशहूर देहरादून भी अब गर्म हो गया है। मौसम केंद्र के मुताबिक, 2012 में बनाया गया ऐतिहासिक रिकॉर्ड 10 साल बाद 2024 में टूट गया है।

शिवालिक चोटियों से घिरे शहर Uttarakhand में मई के दूसरे सप्ताह से ही भीषण गर्मी लोगों को झुलसा रही है। इस सीजन में शहर का अधिकतम तापमान कई बार 40 डिग्री के पार जा चुका है. वर्षा की कमी के कारण जंगल जल रहे हैं और तापमान और बढ़ रहा है। वहीं, शहर की सड़कों के किनारे फूलों की क्यारियों में लगे पौधे भी काफी मुरझाये दिखे. आपको बता दें कि देहरादून में मौसम विज्ञान केंद्र 1867 से तापमान की निगरानी कर रहा है और बताया गया है कि 157 वर्षों में शहर का मौसम इतना गर्म कभी नहीं हुआ।

टूटा 157 साल पुराना रिकॉर्ड

देहरादून मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि शहर का तापमान ब्रिटिश शासन काल यानी 1 जनवरी 1867 से रिकॉर्ड किया जा रहा है. 1988 में देहरादून शहर में सबसे ज्यादा तापमान 42.8 डिग्री दर्ज किया गया था, लेकिन मई 2024 में ये रिकॉर्ड भी टूट गया. उस वक्त देहरादून में तापमान 43.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. शुक्रवार को देहरादून में तापमान अब तक के सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए 43.2 डिग्री तक पहुंच गया.

आंधी-तूफान की चेतावनी जारी

देहरादून मौसम विज्ञान केंद्र ने भी मौसम पूर्वानुमान जारी किया है और राज्य के कुछ पहाड़ी इलाकों में 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की पीली चेतावनी जारी की गई है. कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है, लेकिन मैदानी इलाकों में गर्मी से राहत नहीं मिलेगी.

चक्रवात रेमल के कारण तापमान में भी बढ़ोतरी हुई

रविवार को बांग्लादेश में आए चक्रवाती तूफान के कारण राज्य का तापमान भी बढ़ गया है. मौसम विज्ञान निदेशक बिक्रम सिंह ने कहा कि चक्रवाती तूफान बढ़ते तापमान के कारण गर्म हवाओं में बदल गया और इसका असर राजस्थान, पंजाब, उत्तर प्रदेश और Uttarakhand में देखा जा सकता है। इस साल मई में बारिश 21% कम हुई।