प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के जरिए देशवासियों से जुड़ते रहते हैं. आज इस कार्यक्रम के 85वे एपिसोड में PM मोदी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन किया. PM मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार किसी भी देश को खोखला कर सकता है. इसके साथ ही बाल पुरस्कारों पर PM मोदी ने कहा कि लगातर कोशिश करने से आपके सभी सपने साकार हो जाते हैं. इस बार मन की बात कार्यक्रम महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के मौके पर 11 बजे की जगह 11.30 बजे शुरू किया गया, ऐसा पहली बार हुआ है।
प्रधानमंत्री मोदी का यह रेडियो संबोधन हर महीने के अंतिम रविवार को होता है और आज का कार्यक्रम साल 2022 का के पहले महीने का पहला कार्यक्रम है.

‘मन की बात’ में PM मोदी ने कहा कि देश तेजी से तरक्की की ओर बढ़ रहा है लेकिन सिस्टम में मौजुद भ्रष्टाचार दीमक की तरह देश को खोखला करता है, हम उससे मुक्ति के लिए इंतजार क्यों करें. यह काम हम सभी देशवासियों को, आज देश की युवा पीढ़ी को आपस में मिलकर करना है और जल्द से जल्द करना है। उन्होंने आगे कहा कि इसके लिए बहुत जरूरी है कि हम अपने कर्तव्यों को सबसे ज्यादा प्राथमिकता दें. जहां पर कर्तव्य निभाने का एहसास हो, कर्तव्य सर्वोपरि हो तो वहां भ्रष्टाचार भी नहीं रह सकता.
महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ”आज हमारे पूज्य बापू, हमारे राष्ट्रपिता की पुण्यति​​थि है. 30 जनवरी का ये दिन हमें बापू की सभी शिक्षाओं की याद दिलाता है. अभी कुछ दिन पहले हमने गणतंत्र दिवस मनाया, दिल्ली में राजपथ पर हमने देश के शौर्य और सामर्थ्य की जो झांकीयां देखी उस पर सभी देशवासियों को गर्व और उत्साह है.” उन्होंने कहा, ”देश में पद्म सम्मान की भी घोषणा हुई है. पद्म पुरस्कार पाने वाले हमारे देश के unsung heroes हैं, जिन्होंने साधारण परिस्थितियों में असाधारण काम कर दिखाए हैं.’’PM मोदी ने आगे कहा, ‘’आजादी के अमृत महोत्सव में देश अपने प्रयासों के जरिए अपने राष्ट्रीय प्रतीकों को पुन: प्रतिष्ठित कर रहा है और हमने देखा है कि इंडिया गेट (India Gate) के पास ‘अमर जवान ज्योति’ और उसके समीप ‘National War Memorial’ पर प्रज्ज्वलित ज्योति को मिलाकर एक किया गया.’’
अपको बता दे कि PM मोदी ने 19 जनवरी को नागरिकों को अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के लिए अपने विचार और सुझाव साझा करने को आमंत्रित किया था.

PM मोदी ने अपने विचार साझा करते हुए बताया कि आप सभी साथी मुझे अमृत महोत्सव पर ढेरों पत्र और संदेश भेजते हैं, कई सुझाव देते हैं. इसी श्रृंखला में कुछ ऐसा हुआ है जो की मेरे लिए अविस्मरणीय है. मुझे लगभग एक करोड़ से ज्यादा बच्चों ने अपने मन की बात पोस्ट कार्ड के जरिए लिखकर भेजी। इतना ही नही भारत की आजादी के इस अमृत महोत्सव का उत्साह केवल हमारे देश में ही नहीं है बल्कि मुझे भारत के मित्र देश क्रोएशिया से भी 75 पोस्टकार्ड मिले हैं.

पीएम मोदी ने कहा, ”प्रकृति से प्रेम और हर जीवन के लिए करुणा हमारी संस्कृति भी हैं, अभी हाल ही मध्य प्रदेश के पेंच टाइगर रिज़र्व में एक बाघिन ने दुनिया को अलविदा कहा. इस बाघिन को लोग ‘कॉलर वाली बाघिन’ बुलाते थे.” वहीं पीएम मोदी ने President’s Bodyguards के चार्जर घोड़े विराट का जिक्र करते हुए कहा, ”हम हर चेतन जीव से प्रेम का संबंध बना लेते हैं. ऐसा ही एक दृश्य हमें इस बार गणतंत्र दिवस की परेड में भी देखने को मिला जहां President’s Bodyguards के चार्जर घोड़े विराट ने अपनी आखिरी परेड में हिस्सा लेकर अपनी सेवा यात्रा पूरी की