Rajasthan Weather Update:

Rajasthan में इस समय भारत-पाकिस्तान सीमा गर्मियों से भरी हुई है। डिजिटल ताप मापी यंत्र 53 डिग्री तक पहुंच गया है। Rajasthan के जैसलमेर जिले में बोर्डर पर BSF के एक जवान की भी मौत हो गई। यह महत्वपूर्ण है कि मौसम विभाग इस गणना को नहीं मानता है। फलौदी अभी Rajasthan का सबसे गर्म शहर है, मौसम विभाग का कहना है। तापमान 50 डिग्री के आसपास है। लेकिन बॉर्डर पर जलते हुए रेगिस्तानी धोरे हैं। फिलहाल फलौदी एशिया का गर्मी का केंद्र बन गया है।

तपती रेत में पैदल चलने और ऊंटों पर चलने वाले बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के जवानों का हौसला इतना बुलंद है कि वे इतनी गर्मी में भी काम कर रहे हैं। हालांकि जवानों को बचाव के लिए कूलिंग जैकेट दिए गए। लेकिन ये सभी उपाय पर्याप्त नहीं लग रहे हैं। भारत-पाक बॉर्डर पर जवान तपती मिट्टी पर आमलेट कैसे पका रहे हैं? कार की बोनट पर रोटियां सेक दी जाती हैं। रेत में पलक झपकते ही पापड़ सिक रहे हैं।

पूरे जज्बे के साथ जवान बॉर्डर कर रहे हैं गश्त:

बॉर्डर पर रेत के धोरे आग की भट्टी बन गए हैं। डिजिटल ताप मापी यंत्र में 53 डिग्री से अधिक का तापमान था। यहां तापमान को रिकॉर्ड करने के लिए मौसम विभाग का ताप मापी यंत्र नहीं लगा हुआ है। BSF के जवान पूरी शिद्दत से बॉर्डर पर गश्त कर रहे हैं, शरीर को जला देने वाली गर्मी और लू के थपेड़ों के बीच।

ऊंटों के लिए भी अंगारा बनी रेत में चलना मुश्किल है:

पैदल चलना मुश्किल है भभकते धोरों में। धोरों की मिट्टी इतनी नरम है कि पैर उसमें धंस जाते हैं। ऊंटों पर कुछ युवा चलते हैं। लेकिन अंगारा बनी रेत में चलना भी ऊंटों के लिए मुश्किल है। जवानों को डिहाईड्रेशन किट और कूलिंग जैकेट दिए गए। पीने के पानी के लिए भी खास व्यवस्था की गई है। फिर भी, बॉर्डर पर BSF के जवान अजय कुमार को इस घातक गर्मी ने मार डाला।