कोरोना महामारी के वैरिएंट्स चिंता का सबब रहे हैं। इसका हर वैरिएंट पिछले की तुलना में अलग होता है। वैरिएंट्स के साथ-साथ अब इसके सब वैरिएंट्स भी सामने आने लगे हैं। ओमिक्रोन के कहर से जूझ रही दुनिया अब इसके सब वैरिएंट Stealth Omicron का सामना कर रही है। भारत में भी ओमिक्रोन के सब वैरिएंट Stealth Omicron के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस नए वैरिएंट के मामले अब तक भारत के अलावा डेनमार्क, ब्रिटेन, स्वीडन और सिंगापुर में देखने को मिले हैं। स्ट्रेन ओमिक्रोन के मूल वैरिएंट की तुलना में कई गुना तेजी से फैलता है।

टेस्ट की पकड़ में नहीं आता यह वैरिएंट
ओमिक्रोन को अब तक डेल्टा वैरिएंट्स की तुलना में कई गुना संक्रामक माना जा रहा था। हालांकि, इसके लक्षण डेल्टा की तुलना में कम गंभीर हैं लेकिन इसका सब वैरिएंट स्टील्थ ओमिक्रोन उतना हल्का नहीं माना जा रहा है। यहां तक कि वो RT-PCR टेस्ट से भी बच सकता है। यही वजह है कि स्टील्थ ओमिक्रोन को लेकर वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई है। इससे पहले के सारे वैरिएंट्स RT-PCR टेस्ट की पकड़ में आसानी से आ जाते थे।

स्टील्थ ओमिक्रॉन के लक्षण
एक्सपर्ट्स के अनुसार, कोरोना के हर वैरिएंट के लक्षण पहले की तुलना में अलग होते हैं। ओमिक्रोन के लक्षण डेल्टा से अलग हैं। ओमिक्रोन के ज्यादातर मरीजों को नाक बहने या फिर गले में चुभन की शिकायत है। इन मरीजों को स्वाद या सुगंध में कमी का एहसास नहीं हो रहा है जैसा कि डेल्टा में था। ओमिक्रोन के सब वैरिएंट के अब तक कोई अलग लक्षण देखने को नहीं मिले हैं। हालांकि, गले में खराश के बाद भी RT-PCR टेस्ट में लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आ रही हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार, कई मामलों में ऐसा स्टील्थ ओमिक्रॉन की वजह से हो सकता है। स्टील्थ ओमिक्रोन में भी फिलहाल बहती नाक, सिर दर्द, थकान, छींक आना और गले में खराश जैसे लक्षण देखने को मिल रहे हैं।